शुक्रवार, 7 जुलाई 2017

ममता की आग में जलता हिंदुत्व

मित्रों, कई साल हो गए. तब उत्तर प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि जहां 10-20 प्रतिशत मुसलमान होते हैं, वहां छिटपुट सांप्रदायिक दंगे होते रहते हैं। जहां 20-35 प्रतिशत होती है, वहां गंभीर दंगे होते हैं और जहां उनकी आबादी 35 प्रतिशत से ज्यादा होती है, वहां गैर मुस्लिमों के लिए कोई जगह नहीं है। तब मेरे साथ-साथ बहुत-से लोगों को उनका बयान भड़काऊ और बकवास लगा था लेकिन जब हम आज के पश्चिम बंगाल के हालात देखते हैं तो लगता है कि योगी जी ने जो कहा था बिल्कुल सही कहा था और व्यावहारिक अनुभव के आधार पर कहा था.
मित्रों, साल २०११ में मैंने भी कुछ कहा था. तारीख थी १४ मई. ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल में चुनाव जीत चुकी थीं लेकिन शपथ-ग्रहण नहीं हुआ था. तब हमने कहा था कि सांपनाथ हारे नागनाथ जीते. अर्थात ममता और कम्युनिस्टों में कोई तात्विक भेद नहीं है. दोनों का एजेंडा भी एक ही है और काम करने का तरीका भी एक ही.
मित्रों, आज ममता के शासन के ६ साल बाद मैं ताल ठोंक के कह सकता हूँ कि इससे अच्छा तो कम्युनिस्टों का ही शासन था. ममता वोट-बैंक के लिए वही गलतियाँ कर रही है जो बंगाल में कम्युनिस्टों, यूपी में अखिलेश और केंद्र में सोनिया ने किया. कथित अल्पसंख्यकों को सर पर चढ़ा लेना और बहुसंख्यकों की पूर्ण अवहेलना करना.
मित्रों, आज बंगाल के हालात क्या है? आज बंगाल में हिन्दू उतने भी सुरक्षित नहीं हैं जितने बंगला देश में हैं. कहना न होगा कि योगी आदित्यनाथ की भविष्यवाणी यहाँ एकदम सटीक साबित हो रही है. बंगाल में मुसलमान ३५ % हो चुके हैं. आज के बंगाल में सचमुच हिन्दुओं के लिए कोई जगह नहीं रह गई हैं. बंगाल दूसरा कश्मीर बनने की और तीव्र गति से अग्रसर है. ऐसे में जब राज्य सरकार को उनपर सख्ती से नियंत्रण करना चाहिए तो वो उनको और भी बढ़ावा दे रही है. मानों ६५ % हिन्दुओं की उसकी नजर में कोई कीमत ही नहीं.
मित्रों, कीमत हो भी कैसे जबकि बंगाली हिन्दुओं में से बहुत-से लोग निजी या जातीय स्वार्थ के लिए तृणमूल कांग्रेस के समर्थक बने हुए हैं. हालाँकि ऐसे ही चलता रहा तो वो दिन दूर नहीं जब वे भी सीधी कार्यवाही के शिकार होंगे. समझे नहीं क्या? इतिहास गवाह है कि भारत की स्वतंत्रता के पूर्व इसी बंगाल की राजधानी कोलकाता से मुस्लिम लीग ने इतिहास के सबसे भीषण दंगों की शुरुआत की थी.  लीग द्वारा 'सीधी कार्यवाही' की घोषणा से १६ अगस्त सन् १९४६ को कोलकाता में भीषण दंगे शुरु हो गये। इसे कलकत्ता दंगा या कलकत्ता का भीषण हत्याकांड (Great Calcutta Killing) कहते हैं। 'सीधी कार्रवाई' मुस्लिम लीग द्वारा पाकिस्तान की माँग को तत्काल स्वीकार करने के लिए चलाया गया अभियान था। यह 16 अगस्त 1946 को प्रारंभ हुआ, जब लीग के उकसाने पर कलकत्ता तथा बंगाल और बिहार के सीमावर्ती क्षेत्रों में भीषण दंगे भड़क गए। 72 घंटों के भीतर छह हजार से अधिक लोग मारे गए, बीस हजार से अधिक गंभीर रूप से घायल हुए और एक लाख से अधिक कलकत्तावासी बेघर हो गए। उसके बाद जब दंगों की आग पंजाब पहुंची तो ६०-७० लाख लोग इसकी आग में झुलस गए. कहना न होगा कि प्रभावितों में और मरनेवालों में तब भी हिन्दू ज्यादा थे. तो क्या फिर से बंगाल उसी इतिहास को दोहराने जा रहा है? फिर से बंगाल से एक और बंगला देश निकलेगा?  और क्या हम हिन्दू बंगाल खाली करके मूकदर्शक बने ऐसा होने देंगे?
मित्रों, आज संकट की इस विकट घडी में बंगाल में कौन-से दल हिन्दुओं के साथ है? बंगाल के अन्य दंगों की तरह वशीरहाट के दंगों में भी मुसलमानों ने न तो किसी कम्युनिस्ट नेता को मारा और न ही तृणमूल या कांग्रेस के कार्यकर्ता को. वहां भी सिर्फ और सिर्फ भाजपा कार्यकर्ताओं की चुन-चुनकर हत्या की गयी. जब भी इस्लाम के नाम पर दंगे होते हैं और हत्याएं होती हैं केवल भाजपाई ही हिन्दुओं के लिए जान देते आए हैं और देते रहेंगे बांकी दल तो शुरू से ही घोषित हिन्दू-विरोधी हैं.
मित्रों, यह तो सही है कि केरल के साथ-साथ बंगाल में भी केवल भाजपाई हिन्दुओं के लिए जान दे रहे हैं लेकिन सवाल यह भी उठता है कि आखिर कब तक ऐसा चलता रहेगा? कब तक हिन्दू कट्टर इस्लाम के हाथों बंगाल में जलता, लुटता और मरता रहेगा? कब तक केंद्र सरकार मूकदर्शक होकर हिन्दू महिलाओं का बलात्कार और हत्या देखती रहेगी? कब लगेगा बंगाल में राष्ट्रपति शासन? कब????? कितनी हिन्दू बस्तियों के जलने के बाद????

कोई टिप्पणी नहीं: